शिव पुराण के इन उपाय का प्रयोग करने से 4 गम्भीर समस्याओं से मुक्ति मिलेगी

 शिव पुराण के इन उपाय का प्रयोग करने से 4 गम्भीर समस्याओं से मुक्ति मिलेगी




शिव पुराण में भगवान शिव की उपासना का विशेष महत्व बताया गया है। साथ ही इसमें यह भी बताया गया है कि भगवान शिव की पूजा करने से भक्तों को किसी प्रकार की समस्याओं का सामना नहीं करना पड़ता है। साथ ही उनके जीवन में सदैव सुख-समृद्धि बनी रहती है। मान्यता यह भी है कि हर दिन भगवान शिव की उपासना करने से व्यक्ति को धन, ऐश्वर्य, कर्ज से मुक्ति इत्यादि का आशीर्वाद मिलता है। बता दें कि शिव पुराण में कुछ ऐसे उपाय बताए गए हैं, जिनका पालन करने से भक्तों को न केवल लाभ मिलता है, बल्कि 4 गम्भीर समस्याओं से मुक्ति मिल जाती है। आइए जानते हैं-




जीवन में सभी समस्याओं को दूर करने के लिए 

शिव पुराण में बताया गया है कि जीवन में विभिन्न प्रकार के समस्याओं को दूर करने के लिए हर दिन शिवलिंग पर जल में काला तिल मिलाकर अभिषेक करना चाहिए। मान्यता है कि इस उपाय को करने से जीवन में आ रही अशुभता कम हो जाती है सभी कार्य सफल होने लगते हैं। 



सुख-समृद्धि में आ रहे समस्याओं को दूर करने के लिए

शिव पुराण में बताया गया है कि जो लोग सुख-सुविधाओं में वृद्धि की कामना कर रहें हैं, उन्हें हर दिन जल में जौ के दाने मिलकर शिवलिंग का अभिषेक करना चाहिए। ऐसा करने से पितर भी प्रसन्न होते हैं और उनका आशीर्वाद मिलता है। इसके साथ आप गेहूं से जुड़े कुछ उपाय कर सकते हैं, जैसे- गेहूं से बने पकवान का भोग लगाना, गेहूं का दान करना इत्यादि। ऐसा करने से सुख समृद्धि में वृद्धि होती है और परिवार में सकारात्मक माहौल बना रहता है।


मनोकामना पूर्ति के लिए

शिव पुराण में बताया गया है कि व्यक्ति को मनोकामना पूर्ति के लिए कम से कम पांच सोमवार भगवान पशुपतिनाथ को समर्पित उपवास रखना चाहिए। बता दें कि इस व्रत में प्रदोष व्रत की भांति ही शिव जी की सुबह और प्रदोष काल में पूजा की जाती है। मान्यता है कि सफलता पूर्वक इस व्रत का पालन करने से सभी मनोकामनाएं पूर्ण हो जाती हैं और भक्तों पर भगवान शिव का आशीर्वाद बना रहता है।


कर्ज से मुक्ति के लिए करें ये उपाय

कभी-कभी व्यक्ति निरंतर ही धन सम्बन्धित समस्याओं से जूझता रहता है। ऐसे में शिव पुराण में इस सन्दर्भ में भी कुछ उपाय बताए गए हैं। जिनका पालन करने से भक्तों को विशेष लाभ मिलता है। ऐसा करने के लिए वह हर दिन जल में अक्षत मिलाकर शिवलिंग पर अर्पित करें। अगर ऐसा सम्भव नहीं है तो प्रत्येक सोमवार को ऐसा जरूर करें। मान्यता है कि ऐसा करने से लक्ष्मी की प्राप्ति होती






टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

पशुपतिनाथ व्रत की विधि एवं कथा

शिव महापुराण में से बताए गए प्रदीप जी मिश्रा जी के अदभुत उपाय

इस वर्ष श्रावण का अधिकमास, भगवान महाकालेश्वर की निकलेगी 10 सवारी जानिए पूरी जानकारी