अघोरी कहां और कैसे करते हैं साधना, कैसा होता है इनका स्वभाव, जानें इनके बारे में सबकुछ

 

अघोरी कहां और कैसे करते हैं साधना, कैसा होता है इनका स्वभाव, जानें इनके बारे में सबकुछ




Aghori Koun Hote hain : अघोरी नाम सुनते
ही सभी के मन में एक ऐसी तस्वीर उभर कर आती है, जिसकी लंबी-लंबी जटाएं हों, जिसका शरीर राख में लिपटा हो और जिन्होंने मुंड मालाएं गले में धारण की हों. माथे पर चंदन का लेप और उसके ऊपर उभरा हुआ तिलक. यह डरावना स्वरूप हर किसी के मन में भय पैदा कर सकता है परंतु इनके नाम का अर्थ विपरीत होता है. अघोरी नाम का अर्थ होता है, एक ऐसा व्यक्ति जो सरल है, डरावना नहीं है, जो किसी से भेदभाव नहीं करता. यह अक्सर आपको श्मशान के सन्नाटे में जाकर तंत्र क्रिया करते हुए देखे जा सकते हैं



एक बाबा को अघोरी का दर्जा तभी दिया जाता है, जब वह मन से प्रेम, नफरत, बदला, जलन आदि सभी तरह के भाव से मुक्त हो जाए.

कई लोग अघोरी बाबाओं को डरावना समझते हैं, लेकिन वास्तव में अघोरी बाबा डरावने नहीं होते हैं, बल्कि इनकी वेशभूषा डरावनी होती है. साथ ही ये बहुत ही सरल होते हैं और किसी भी चीज में भेदभाव नहीं करते हैं. कहा जाता है कि अघोरी बाबा लोगों या दुनिया की किसी भी चीज में कोई रुचि नहीं रखते हैं. इनकी अपनी अलग दुनिया होती है.



अघोरी बाबा इस धरती की हर चीज को भगवान शिव और मां काली का अंग मानते हैं. यही कारण है कि अघोरी बाबा के जीवन का सबसे बड़ा उद्देश्य भगवान शिव और मां काली को प्रसन्न कर के उनसे शक्तियां हासिल करना होता है. अघोरी बाबा, मां काली की पूजा  भैरवी, बगलामुखी और धूमवती तीन स्वरूपों में करते हैं. जबकि, भगवान शिव को वे भैरव, महाकाल और वीरभद्र के रूप में पूजते हैं.

अघोरी बाबाओं का जीवन दूसरे संत-साधुओं के मुकाबले काफी विपरीत होता है, क्योंकि साधु संतों को मांस-मदिरा खाने की अनुमति नहीं होती है. जबकि, कहा जाता है कि अघोरी बाबा मृत मानव के मांस का सेवन करने के साथ-साथ उनके खून का सेवन भी करते हैं. गाय के मांस को छोड़कर वे हर जानवर के मांस का सेवन कर सकते हैं. उनके लिए कोई सीमा निर्धारित नहीं होती है.

अघोरी बाबा बनने वाले व्यक्ति को हर चीज के प्रति एक समान भावना रखने की शिक्षा दी जाती है, ताकि अघोरी बाबा अपने-पराए का फर्क किए बिना ही लोगों के भले के लिए अपनी विद्या इस्तेमाल कर सकें.



अघोरी बाबा अपनी ज्यादातर साधना श्मशान घाट में रहकर करते हैं. उनका मानना है कि अंधेरी रात में श्मशान में जलती हुई चिताओं और कंकालों के बीच बैठकर साधना करने से शीघ्र ही फल मिलता है. मान्यता है कि अघोरी बाबा श्मशान घाट में श्मशान साधना, शव साधना और शिव साधना करते हैं.

कहा जाता है कि अघोरी बाबा आम लोगों से दूरी बनाकर रहते हैं. स्वभाव से यह बाबा बहुत जिद्दी होते हैं और जल्दी किसी को आशीर्वाद भी नहीं देते हैं. लेकिन जिस व्यक्ति को इनका आशीर्वाद मिल जाए उसका जीवन सुखमय हो जाता है. यही कारण है कि कुंभ के मेले में अघोरी बाबा आकर्षण का केंद्र होते हैं.
.

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

पशुपतिनाथ व्रत की विधि एवं कथा

शिव महापुराण में से बताए गए प्रदीप जी मिश्रा जी के अदभुत उपाय

इस वर्ष श्रावण का अधिकमास, भगवान महाकालेश्वर की निकलेगी 10 सवारी जानिए पूरी जानकारी