2024 सावन कब हो रहे शुरू । किस शुभ योग में होगी सावन की शुरुआत, जानें सावन सोमवार का महत्व और तिथि


 2024 में कब शुरू हो रहे है  सावन  चलिए देखते है । 





 2024 सावन कब हो रहे शुरू :

हिंदू धर्म में सावन के महीने का विशेष महत्व है। यह महीना भगवान शिव को समर्पित है। मान्यता है सावन के महीने में की गई पूजा पाठ का व्यक्ति को विशेष फल मिलता है। साथ ही भोलेनाथ प्रसन्न होकर सुख- समृद्धि का आशीर्वाद प्रदान करते हैं। वहीं आपको बता दें कि  इस बार सावन पर बहुत ही अद्भुत संयोग बन रहा है। दरअसल, इस बार सावन महीने की शुरुआत सोमवार से ही होने जा रही है। साथ ही इस दिन सर्वार्थ सिद्धि योग, आयुष्मान और प्रीति योग भी बन रहे हैं। जिससे इस दिन का महत्व और भी बढ़ गया है। आइए जानते हैं सावन कब से हो रहा है आरंभ और इस बार सावन में कितने सोमवार होंगे।



कब से शुरू हो रहा है सावन ?

सावन के महीने का आरंभ 22 जुलाई 2024, सोमवार से हो रहा है और इसका समापन 19 अगस्त 2024 को होगा। इस बार सावन के महीने में पांच सोमवार पड़ेंगे जो बेहद शुभ माने जाते हैं।



सावन सोमवार का धार्मिक महत्व 

सावन के महीने में भगवान शिव की पूजा अर्चना का विशेष फल प्राप्त होता है। मान्यता है इस दिन जो भी मत पार्वती और भगवान भोलेनाथ की आराधना करता है उसे सुख समृद्धि की प्राप्ति होती है। पौराणिक कथाओं के अनुसार भगवान भोलेनाथ को अपने पति के रूप में पाने के लिए  माता पार्वती ने कठोर तपस्या की थी। इसके फलस्वरूप महादेव ने पार्वती जी को अपनी पत्नी के रूप में स्वीकार करने का वर दिया। मान्यता है कि जो भी सावन के सोमवार में भगवान भोलेनाथ की पूरी श्रद्धा के साथ पूजा करता है उसे  मनचाहा वर या वधू प्राप्त होता है। इसके अलावा सावन के सोमवार का व्रत रखने से कुंडली में चंद्रमा की  स्थिति मजबूत होती है और इसके अलावा राहु-केतु  का अशुभ प्रभाव दूर होता है।


सावन सोमवार की तिथियां 

22 जुलाई 2024- पहला सोमवार 

29 जुलाई 2024-दूसरा सोमवार 

05 अगस्त 2024- तीसरा सोमवार 

12 अगस्त 2024- चौथा सोमवार 

19 अगस्त 2024- पांचवा सोमवार 


शुभ योगों का संयोग 

22 जुलाई को सावन के आरंभ होते ही प्रातः 05: 37 से रात्रि 10: 21 तक सर्वार्थ सिद्धि योग का निर्माण हो रहा है। वहीं  प्रीति योग जो 21 जुलाई को रात्रि 09:11पर शुरू होगा और 22 जुलाई को सायं 05:58 पर समाप्त होगा। तीसरा योग आयुष्मान योग है जो सायं 05: 58 से आरंभ होकर 23 जुलाई को दोपहर 02:36 पर समाप्त होगा। 


टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

पशुपतिनाथ व्रत की विधि एवं कथा

शिव महापुराण में से बताए गए प्रदीप जी मिश्रा जी के अदभुत उपाय

इस वर्ष श्रावण का अधिकमास, भगवान महाकालेश्वर की निकलेगी 10 सवारी जानिए पूरी जानकारी